Saturday, December 8, 2012

Jiyo Nidar

हम तो अकेले अंधेरों में जीते हैं
हर पल तूफानों में चलते है

डरते तो वो हैं जो -
भीड़ में रहते हैं ,
और दिन के उजाले में भी
हवा के झोंकों से घबरा जाते हैं .

There was an error in this gadget