Tuesday, October 23, 2012

Ek Ladki...Masoom Zindagi


Kyu teri Zindagi kisi or ki jaagir h
kehne ko tu azaad h
par teri zindagi dusro k khatir h
kyu tu amaanat h
kyu tu zimmedari h
kyu tu chinta ka karan h
or tera jana, chinta ka sbse bada nivaran h
kyu tumhe sambhale rkhna h-
kyuki tumhe kahi or jana h,
kyuki tu toh parayi h,
tujhe kisi or k paas bhejna h?
tu akeli ho toh fikar h
tu kisi or k sath ho toh parwah h
tu ghar me rhe to gawar h
tu bahar ghume toh awaara h
kyu tu aisi h
kyu nhi oron k jaisi h
kyu nhi jeeti apni zindagi
kiske liye sambhale rakhi h
-
mai ek abhi ek beti hu
fir kabi kisi ki bahu or patni hu
meri zindagi abi ma-baap ki zimmedari h
kyuki ye toh mere pati ki jaagir h
maa-baap ka karz h
unhe kaise dukh du
sasural mera farz h
farz se kaise mukar jau
mai ek ladki hu
sabka sukh dekhti hu
fir kuch bache toh
apne baare me sochti hu

2 comments:

  1. One more on the same theme. Expressing the same emotions.

    लड़की और सड़क
    -सविता प्रथमेश मिश्र

    लड़की खड़ी है सड़क पर,
    भांप रही है, समझ रही है
    सड़क को
    गर वह इस पर चले, तो
    जाने कहां ले जाएगी सड़क?
    हो सकता है वहां, जहां उसे जाना न हो,
    तो क्यों न वह अपनी सड़क खुद बनाए?
    लड़की ने ख्वाब बुनने शुरू कर दिये हैं.
    वह सोचती है--
    कितनी बड़ी दुनिया!
    कितने लोग हैं यहां!
    सबकी सोच अलग,
    सबकी मंजिल अलग
    सभी एक ही सड़क से गुज़रते हैं,
    कितना तकलीफदेह होता होगा,
    क्यों नहीं सभी अपनी सड़क बना लेते?
    सफर कितना आसान, कितना आनंददायाक हो जाता!
    वह तो अपनी सड़क खुद बनाएगी
    गिट्टी, रेत, सीमेंट इकट्ठे करना
    शुरू कर दिया है उसने
    हंगामा मच गया
    लड़की सड़क बना रही है!
    अपनी सड़क!
    भला यह लड़कियों का काम है!
    लोग क्या कहेंगे!
    लड़कियों का काम सड़क पर चलना है,
    सड़क बनाना नहीं.
    सड़क तो मर्द बनाते हैं.
    फेंको यह गिट्टी, यह मिट्टी, यह रेत
    लड़की बनाएगी सड़क!
    लड़की खड़ी है सड़क पर अब भी.
    सोच रही है
    कब बनेगी उसकी
    खुद की सड़क, अपनी सड़क.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Nice !!!!
      But i felt emotions are slightly different as well
      As per my understanding Savita ji ki kavita mein ladki apna khudka astitva sthapit krna chahti hai. Ladki sapne dekh rahi hai or ab bhi uske armaan h pure krne k liye. Uske sapne to purush pradhan duniya rok rhi h or ladki ab bhi soch rhi h.

      Kavita - 'Ek ladki..' mein sawaal kiya jaa rha h ladki se ki uska apna astitva, apne sapne kyu nhi h, kyu wo hamesha dusron k hisaab se jeeti h.. to ladki garv k sath apne vichaar prakat krti h ki wo karz or farz se bandhi hai. Wo swarthi hokar apna sukh sarvpratham nhi dekh skti.
      :)
      asahmati ho Kripya apne vichaar ya tippani prakat karen aap bhi

      Delete

There was an error in this gadget